अंकित हत्याकांड को हुआ एक साल , धामी सरकार खड़ी रही और आगे भी खड़ी रहेगी अंकिता के परिजनों के साथ…

telemedicine

सीएम धामी ने कहा हम अंकिता के परिवार के साथ खड़े हैं. राज्य की हर बेटी का सम्मान और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं

धामी सरकार अंकिता के परिजनों के साथ, धामी की घोषणा, राजकीय नर्सिंग कॉलेज डोभ का नाम बदलकर अंकिता भंडारी राजकीय नर्सिंग कॉलेज होगा, और विपक्ष करे इस प्रकार पर सियासत

अंकित हत्याकांड को हुआ एक साल , धामी सरकार खड़ी रही और आगे भी खड़ी रहेगी अंकिता के परिजनों के साथ…

 

 

अंकित हत्याकांड को हों गया पूरा एक साल: संवेदनशील मुख्यमंत्री धामी शुरू से एक्शन मोड में आये नजर..

 

मुख्यमंत्री धामी अंकिता के परिजनों के साथ एक अभिभावक की तरह खड़े रहे,परिवार को 25 लाख की आर्थिक सहायता प्रदान की, परिजनों के कहने पर सरकारी वकील को बदला

 

संवेदनशील धामी ने अपने जन्मदिन के दिन श्रीनगर के श्रीकोट स्थित राजकीय नर्सिंग कॉलेज डोभ का नाम बदलकर अंकिता भंडारी राजकीय नर्सिंग कॉलेज करने की घोषणा की…

 

 

*यह था पूरा मामला*

*अंकिता भंडारी वनंतारा रिसॉर्ट की रिसेप्शनिस्ट थीं*

अंकिता को आखिरी बार पुलकित आर्य के साथ रिसॉर्ट में 18 सितंबर 2022 को देखा गया था,
जबकि *उनका शव छह दिन बाद 24 सितंबर को चिल्ला पावर हाउस के पास शक्ति नहर से पुलिस ने बरामद किया था*
इस दौरान मुख्य आरोपी पुलकित ने खुद को पाक-साफ दिखाने के लिए राजस्व पुलिस में अंकिता की गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी।
अंकिता के परिवार वालों का आरोप था कि इस मामले में राजस्व पुलिस पहले हाथ पर हाथ धरे बैठी रही… मुख्यमंत्री धामी के संज्ञान में आने के बाद धामी के निर्देश पर 22 सितंबर को इस मामले को नियमित पुलिस के हवाले किया गया था.
फिर तीनो आरोपी की गिरफ्तारी हुई थी..

फिलहाल इस मामले में चार्जशीट दाखिल हो चुकी है और केस कोर्ट में है

*पूर्व में अंकिता हत्याकांड में सरकार की ओर से जितेंद्र रावत को सरकारी वकील नियुक्त किया गया था, लेकिन अंकिता के परिजनों ने सरकारी वकील से संतुष्ट नहीं थे जिसके बाद मुख्यमंत्री धामी के निर्देश पर वकील बदल दिया गया*

*अदालत में अंकिता भंडारी हत्याकांड मामले की पैरवी के लिए सरकार ने अधिवक्ता अवनीश नेगी को सरकारी वकील नियुक्त किया है। अंकिता के पिता वीरेंद्र सिंह भंडारी की इच्छा से मुख्यमंत्री धामी के निर्देश पर नए वकील की नियुक्ति की है*

इन पूरे 1 साल के दौरान *अंकिता हत्याकांड को लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शुरू से एक्शन मोड में नजर आए*

पहले मामले की जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री धामी ने *इस मुकदमे को राजस्व पुलिस से रेगुलर पुलिस को ट्रांसफर कराया*

 

मुख्यमंत्री धामी के निर्देश पर
*अंकिता भंडारी हत्याकांड केy मुख्य आरोपी पुलकित आर्य के पिता विनोद आर्य और भाई अंकित आर्य को भाजपा ने तत्काल प्रभाव से पार्टी से निष्कासित किया*. साथ ही *अंकित आर्य को उत्तराखंड अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग के नामित उपाध्यक्ष पद से तत्काल प्रभाव से हटाया गया*

*मुख्यमंत्री धामी अंकिता के परिजनों के साथ एक अभिभावक की तरह खड़े रहे ओर हैं..उनहोंने परिवार को 25 लाख की आर्थिक सहायता भी प्रदान की*

*सरकार की ओर से तत्काल एसआईटी गठित की गई*

विपक्ष ने एसआईटी के बजाय मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की मांग लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की। जिसे हाईकोर्ट ने खारिज किया।

*धामी सरकार ने परिवार को दिया साथ का भरोसा*
अपने जन्मदिन यानी की 16 सितंबर को ही सीएम धामी ने *श्रीनगर के श्रीकोट स्थित राजकीय नर्सिंग कॉलेज डोभ का नाम बदलकर अंकिता भंडारी राजकीय नर्सिंग कॉलेज करने की घोषणा की*

*इस दौरान सीएम धामी ने कहा हम अंकिता के परिवार के साथ खड़े हैं. राज्य की हर बेटी का सम्मान और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं*

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here