आगामी चारधाम यात्रा के दृष्टिगत श्रीमती रिधिम अग्रवाल, पुलिस महानिरीक्षक, SDRF द्वारा दिए गए महत्वपूर्ण निर्देश।

telemedicine

आगामी चारधाम यात्रा के दृष्टिगत श्रीमती रिधिम अग्रवाल, पुलिस महानिरीक्षक, SDRF द्वारा दिए गए महत्वपूर्ण निर्देश।

 

आगामी चारधाम यात्रा-2023 के लिए प्रदेश में समस्त तैयारियां पूर्ण कर ली गयी है। विगत वर्ष  सम्पूर्ण देश से सैंकड़ों लोगों  द्वारा चारधाम यात्रा दर्शन हेतु उत्तराखण्ड में आगमन किया गया था। इस वर्ष भी लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं की इस देवभूमि में आगमन करने की प्रबल सम्भावनाएं है। ऐसे में एसडीआरएफ उत्तराखण्ड पुलिस भी चारधाम यात्रा को सुगम व सुरक्षित बनाने हेतु निरन्तर प्रयासरत है।गठन के पश्चात से लगातार ही SDRF टीमों द्वारा चारधाम  यात्रा मार्गों पर व्यवस्थापित रहकर श्रद्धालुओं के सुगम व सुरक्षित दर्शनों में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई गयी है। पिछले अनुभवों से सीखते हुए SDRF टीम पुनः सुरक्षित व सुगम यात्रा हेतु प्रतिबद्ध है।

आगामी चारधाम यात्रा के दृष्टिगत आज दिनाँक 19 अप्रैल 2023 को श्रीमती रिधिम अग्रवाल, पुलिस महानिरीक्षक, SDRF द्वारा चारधाम यात्रा मार्ग पर तैनात SDRF पोस्टों के इंचार्ज व कंपनी टू आई सी को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से महत्वपूर्ण दिशा निर्देश दिए गए। महोदया द्वारा सर्वप्रथम चारधाम यात्रा हेतु की जा रही समस्त तैयारियों का जायजा लिया गया व पाई गई कमियों को शीघ्रातिशीघ्र सही करने हेतु बताया गया। महोदया द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न बिंदुओ पर चर्चा करते हुए निम्न दिशा निर्देश दिए गए-

◆ चारधाम यात्रा  में नियुक्त समस्त कर्मी  मृदु व्यवहार व संयम बनाये रखेंगे। समस्त श्रद्धालुओं को हर सम्भव मदद प्रदान करेंगे । जिससे देश के भिन्न भिन्न स्थानों से आये श्रद्धालु उत्तराखण्ड की अच्छी छवि साथ लेकर जाएं।

 

◆ पोस्टों पर उपलब्ध समस्त उपकरणों की पूर्णतया जांच कर लें कि उपकरण कार्यशील दशा में है अथवा नहीं और यदि किसी उपकरण अथवा अन्य सामान की आवश्यकता प्रतीत होती है  तो समय से उसकी मांग कर लें।

 

◆ समस्त कंपनी कमांडर व पोस्ट इंचार्ज सुनिश्चित कर ले कि ड्यूटी में नियुक्त समस्त जवान शारीरिक अथवा मानसिक रूप से स्वस्थ हो व सभी का मनोबल ऊंचा हो।

 

◆  किसी भी आपात परिस्थिति में त्वरित प्रतिवादन हेतु समय समय पर मॉक ड्रिल व अन्य अभ्यास भी करते रहे।

 

◆ रेस्क्यू से इतर एसडीआरएफ कपाट खुलने के दौरान सुरक्षा व्यवस्था व चारधाम यात्रा के दौरान बुज़ुर्ग, महिलाओं, दिव्यांग व बच्चों को सुगमता से दर्शन कराने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। अतः इन मानवीय कार्यों को पूर्ण निष्ठा व ततपरता  से करें।

 

◆ किसी भी आपात परिस्थिति में श्रद्धालुओं की सहायता हेतु  प्रत्येक एसडीआरएफ पोस्ट पर फ़ूड पैकेट्स की व्यवस्था बनाये रखेंगे जिससे अवांछित स्थिति में तत्काल श्रद्धालुओं को फ़ूड पैकेट्स उपलब्ध कराए जा सके।

 

◆ स्वास्थ्य विभाग से समन्वय स्थापित करते हुए यात्रा मार्ग पर ऐसे स्थानों को चिन्हित किया जाए जहां पैदल ट्रैक अत्यंत लम्बा हो ।ऐसे सभी ट्रैक पर लंबी पैदल दूरी के दौरान बीच-बीच में पेरामेडिक्स तैनात किए जाएंगे जिससे ऐसे स्थानों पर किसी श्रद्धालु के अस्वस्थ होने पर कम से कम समय में चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराई जा सके।

 

इन्हीं महत्वपूर्ण बिंदुओ पर चर्चा के उपरांत महोदया द्वारा चारधाम यात्रा हेतु जवानों का मनोबल बढ़ाते हुए सभी को इसी कर्तव्यनिष्ठा व मनोयोग से कार्य करने हेतु प्रेरित किया गया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here